Monday, October 25, 2010

एक तजुर्बा ऐसा भी!

हुई सुबह और जहन में एक ख़्याल आया,
हुई आखें नम और दिल में एक सैलाब आया!
डूब गया साहिल न मिल पाया किनारा उसे
हसती आखों ने आज रोने का भी तजुर्बा पाया!

- साहिल 

5 comments:

  1. बहुत खूब बंधू .. एकदम दिल को छूने वाली पंक्तिया है ... और एक यथार्थ भी ....


    best wishes
    www.publicityweek.com

    ReplyDelete
  2. Thi vo raat jab mere jahan mai khayal aaya
    Hindi ki ek "vo" line ko padh k jane dil mai kya aaya
    Nikal padi karne ko jo chan bin
    Paaya ki Sahil k piche hi hai Swap humara

    Ye bhi ek naya Tarjuba aaj meine hai paya... :)


    Chicks...

    ReplyDelete
  3. @Vikash: धन्यवाद् दोस्त... वैसे यथार्त वही है जो कभी चरितार्थ हुआ करता था ;)

    @Neha: आपके इस शायराना अंदाज़ ने हमे मंत्रमुग्ध कर दिया.. कृपया इस पृष्ट पर ध्यान दे
    http://sahilkesahil.blogspot.com/p/blog-page_08.html

    ReplyDelete
  4. साहिल,
    बढिया..बहोत गहराइया छू लेती है ये पंक्तिया..

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद राजन!

    ReplyDelete